जादुई लिपस्टिक | Jadui Kahani

Jadui Lipstick Ki Jadui Kahani
Jadui Lipstick Ki Jadui Kahani

कई साल पहले एक औरत अपनी दो जुड़वाँ बेटियों के साथ रहती थी। एक का नाम नेहा और एक का नाम स्नेहा था। जुड़वाँ होने के बावजूद दोनों क स्वाभाव बिलकुल अलग अलग थे। नेहा बोहोत खूबसूरत और घमंडी थी। उसे अपनी खूबसूरती पर बहुत घमंड था। [ आप पढ़ रहे है Jadui Lipstick Ki Jadui Kahani ]

वहीं स्नेहा बदसूरत थी। लेकिन वो दिल की बहुत अच्छी थी। वो सबसे बहुत पर से बात करती और सबकी मदद करती थी। उसनी का नेहा से ज्यादा प्यार करती थी। ये बात स्नेहा को उदास कर देती थी और वो रोज नदी किनारे बैठकर रोया करती थी।

एक दिन वो नदी किनारे बैठकर रो रही थी। तभी उसने देखा की आसमान से एक तारा टूटकर गिर रहा था। टूटते हुए तारे को देखकर उसने मन्नत मांगी कि मेरी माँ मुझे भी उतना ही प्यार करे जितना नेहा से करती है। उसी वक्त वहाँ से एक परी गुजर रही थी उसने स्नेहा की बात सुन ली और और उसके पास आई।

स्नेहा ने परी को सारी बातें बता दी और परी ने स्नेहा को एक जादुई लिपस्टिक दिया। और कहा ये जादुई लिपस्टिक है इसे लगाकर तुम बहुत खूबशूरत हो जाओगी। और कहा की एक बात का ध्यान रहे इसे सिर्फ तुम ही। अगर कोई और इसे लगाएगा तो इसका उल्टा असर होगा और लगाने वाला बदसूरत हो जाएगा। [ आप पढ़ रहे है Jadui Lipstick Ki Jadui Kahani ]

ये कहकर परी वहां से चली गयी और स्नेहा ने वो लिपस्टिक लगा लिया। वो बहुत ही ख़ूबसूरत हो गयी और अपने घर आ गयी। स्नेहा की माँ और बहन उसको देखकर आशचर्यचकित हो गए। उसने उनको सारी बाते बता दी और जादुई लिपस्टिक भी दिखा दी। लेकिन वो परी चेतावनी के बारे में बताना भूल गयी और अपने कमरे में आकर लिपस्टिक को टेबल पर रख दिया और सो गयी।

नेहा खूबसूरत बनना चाहती थी इसलिए उसने लिपस्टिक को चुराने। वो धीरे से स्नेहा के कमरे में गयी और टेबल पर राखी हुई जादुई लिपस्टिक चुरा ली। जैसे ही उसने लिपस्टिक अपने होंठो पर लगाया वो बहुत बदसूरत हो गयी। वो ये देखकर ज़ोर से चिल्लाई और रोने लगी। आवाज सुनकर स्नेहा जाग गयी [ आप पढ़ रहे है Jadui Lipstick Ki Jadui Kahani ]

तब तक उनकी माँ भी कमरे में पहुँच गयी। तब स्नेहा ने बताया की मैं तो बताना भूल गयी थी की ये लिपस्टिक सिर्फ मुझ पर ही करती है। अगर कोई इसको लगाएगा तो वो बदसूरत हो जायेगा। फिर स्नेहा, नेहा को लेकर वापस नदी किनारे जाती है और परी बुलाने लगती है। उसकी सुनकर परी वहां आती है तो स्नेहा उसे बात बता देती है। पारी बोलती है की तुम्हारी बहन बहुत ही लालची है इसके साथ ऐसा चाहिए।

स्नेहा परी के सामने मिन्नतें करती है तो परी उसकी बात मान लेती है और नेहा को फिर से पहले जैसा ही बना देती है। नेहा परी को लिपस्टिक वापस कर देती है लेकिन बोलती है कि अगर तुम ये लिपस्टिक वापस कर दोगी तो तुम फिर से पहले जैसी हो जाओगी। स्नेहा फिर भी उस लिपस्टिक को वापस करते हुए बोलती है कि मुझे ऐसी चीज नहीं चाहिए जो दुसरो को नुकशान पहुँचाये।

परी उसकी बात मान लेती है और लिपस्टिक लेकर चली जाती है। नेहा और स्नेहा ख़ुशी ख़ुशी अपने घर जाती है और अपनी माँ को साडी बात बताती है। उनकी माँ को भी अपनी गलती एहसास होता है और उसके बाद वो स्नेहा से भी उतना ही प्यार करती है। [ आप पढ़ रहे है Jadui Lipstick Ki Jadui Kahani ]

Story By : Chotu Kids – Hindi Stories For Kids

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *