रिक्शा वाली चुड़ैल | Chudail Ki Kahani

Rikshaw Wali Chudail Ki Kahani
Rikshaw Wali Chudail Ki Kahani

एक दिन रामलाल नाम का रिक्शा वाला आधी रात को एक सुनसान सड़क से अपने घर जा रहा था। तभी अचानक उसे एक ख़ूबसूरत लड़की सड़क के किनारे खड़ी दिखाई देती है। रामलाल रिक्शा को उस लड़की की तरफ मोड़ लेता है और उस से जाकर पूछता है की तुम इतनी रात को कहाँ जा रही हो। वो लड़की बोलती है की मैं शाम को घर से निकाली थी और चलते चलते रात हो गयी। आप पढ़ रहे है Rikshaw Wali Chudail Ki Kahani

 

उसकी बात को सुनकर रामलाल बोलता है कि चलो मैं तुम्हे तुम्हारे घर छोड़ देता हूँ। वो लड़की रिक्शे में बैठ जाती है। थोड़ी दूर चलने के बात रामलाल रिक्शा को एक सुनसान गली में मोड़ लेता है। लड़की उससे पूछती है कि तुमने रिक्शा इस सुनसान गली में क्यों मोड़ लिया। रामलाल जवाब देता ही कि बड़ी सड़क तक जाने का शॉर्टकट रास्ता है। 

 

उसकी बात को सुनकर वो लड़की मन ही मन खुश होती है और सोचती है कि इसने तो मेरा काम और भी आसान कर दिया। कुछ दूर चलने पर एक खंडर आता है। लड़की एक भयानक सी आवाज में रिक्शा रोकने के लिए बोलती है। उसकी इतनी भयानक आवाज सुनकर रामलाल चौंक जाता है और पीछे मुड़कर देखता है। 

 

उसके पीछे एक भयानक चुड़ैल बैठी हुई थी। रामलाल डरा हुआ पूछता है कि  कौन हो और वो लड़की कहाँ है। इतना सुनकर चुड़ैल हवा में उड़ने लगती है और रामलाल पर वार कर देती है। चुड़ैल अपने नाखुनो से रामलाल को जान से मार डालती है और उसका सारा खून पी जाती है। आप पढ़ रहे है Rikshaw Wali Chudail Ki Kahani

 

रामलाल को मारने के बाद वो चुड़ैल  उसका रिक्शा लेकर उसी सुनसान सड़क पर घूमने लगती है। थोड़ी देर घूमने के बाद वो चुड़ैल सड़क के एक तरफ रिक्शा रोककर खड़ी हो जाती है। तभी वहां पर एक आदमी आता है और इतनी सूंदर लड़की को देखकर हैरान रह जाता है और उससे पूछता है कि वो वो यहाँ पर क्या कर रही है। 

 

लड़की बोलती है की मैं एक रिक्शे वाली हूँ और राहगीर का इंतज़ार कर रही हूँ, क्या आपको कहीं छोड़ना है। वो आदमी हाँ कहकर रिक्शा में बैठ जाता है। लड़की रिक्शा को उस सुनसान गली में मोड़ लेती है लेकिन आदमी उसकी खूबसूरती में खोया होने के कारण कुछ नहीं पूछता। वो लड़की रिक्शा को उसी खण्डार के सामने जाकर रोक देती है और रिक्शा से निचे उतरकर चुड़ैल का रूप बना लेती है। 

 

वो आदमी डर के मारे कांपने लगता है और बोलता है कि मुझे जाने दो मैं आज के बाद किसी रिक्शा में नहीं बैठूंगा। चुड़ैल बोलती है कि आज के बाद तुम किसी रिक्शा में बैठने के लिए और किसी लड़की को गलत नजर से देखते के लिए जिन्दा ही नहीं बचोगे। फिर वो चुड़ैल उस पर अपने नाखूनों से वार करती है और उसे मारकर सारा खून पी जाती है।   आप पढ़ रहे है Rikshaw Wali Chudail Ki Kahani

 

अब तो ये कहानी आसपास के गाँवों में भी मशहूर हो जाती है और कोई भी उस सड़क पर नहीं आता। एक दिन ऑफिस से लौटने के बाद देर रात को प्रताप नाम का आदमी उसी सड़क से गुजर रहा था। चलते चलते उसे उसी लड़की की आवाज सुनाई दी जो बोल रही थी की क्या मैं आपको कहीं छोड़ दूँ। प्र

 

ताप ने ना में जवाब दिया और पूछा तुम इतनी रात को यहाँ पर रिक्शा क्यों चला रही हो। इस पर लड़की ने जवाब दिया की मैं बहुत गरीब हूँ और रिक्शा चलाकर पेट भरती हूँ। प्रताप को उस पर दया आ गयी और बोला कि दीदी आप मुझे मेरे घर तक छोड़ दो मैं इसके लिए आपको पैसे दे दूंगा और रिक्शा में बैठ जाता है।

 

रास्ते में प्रताप उससे बात करते हुए पूछता है की आपने कोई पढाई की है या नहीं ? अगर कोई पढाई की है तो मैं आपको अपने ऑफिस में दूसरा काम दिलवा सकता हूँ। लड़की ने जवाब दिया  कि मैंने कोई पढाई नहीं की। इन्ही सब बातो में खोया होने के कारण प्रताप का ध्यान ही नहीं जाता कि कब उस लड़की ने रिक्शा उस सुनसान गली में मोड़ लिया। आप पढ़ रहे है Rikshaw Wali Chudail Ki Kahani

 

उसने रिक्शा जाकर उसी खंडर के सामने रोक दिया और निचे उतारकर चुड़ैल का रूप बना लिया। उसका ऐसा रूप देखकर प्रताप डर जाता है और बोलता है “प्लीज मुझे मत मारो मैं आज के बाद कभी इस रास्ते पर नहीं आऊंगा”। चुड़ैल बोलती है “मैं तुम्हे मरने के लिए ही यहाँ पर लेकर आई थी लेकिन तुम एक अच्छे आदमी हो अब मैं तुम्हे नहीं मारूंगी”। 

 

ये सुनकर प्रताप राहत की सांस लेता है और पूछता है कि तुम यहाँ पर लोगो को मारती क्यों हो। चुड़ैल बताती है कि “एक दिन मैं अपनी कोचिंग क्लास से घर आते वक्त थोड़ी लेट हो गयी और रात हो गयी। इसी रास्ते से जाते हुए मुझे कुछ लोग मिले और मुझे किडनैप कर के उसी खंडर के पास ले जाकर बहुत बुरा बर्ताव किया और फिर मुझे मारकर इसी खंडर में फेंक दिया”। 

 

चुड़ैल की बाते सुनकर प्रताप भावुक हो जाता है और बोलता है कि तुम्हारा यहाँ से आजाद होने का कोई रास्ता नहीं है क्या ? इस पर चुड़ैल बताती है कि अगर तुम खंडर में पड़ी हुयी मेरी लाश का अंतिम संस्कार कर दो तो मैं यहाँ से हमेशा के लिए चली जाउंगी। प्रताप पास से कुछ लकड़ियां इकठ्ठा कर के खंडर में पड़ी हुई लाश का अंतिम संस्कार कर देता है और वो चुड़ैल वह से हमेशा के लिए चली जाती है। आप पढ़ रहे है Rikshaw Wali Chudail Ki Kahani

 

उसके बाद प्रताप अपने घर जाता है और सोचता है कि आज के बाद मैं कभी भी उस सड़क पर किसी लड़की के साथ ऐसा नहीं होने दूंगा और वो उस सड़क पर टैक्सी की सुविधा करवाता है ताकि कभी किसी लड़की के साथ रात में ऐसा ना हो। 

Story By : Best Story TV

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *